February 25, 2021

NEAT 2.0 : कोविड-19 के बाद ऑनलाइन शिक्षा का भविष्य

24 Views

 

13 फरवरी 2021 : भारत में ऑनलाइन शिक्षा के भविष्य का आधुनिककीकरण करने की कोशिश में शिक्षा मंत्रालय अपनी क्रियान्वयन एजेंसी, अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) के सहयोग से नई दिल्ली के एआईसीटीई ऑडिटोरियम में 16 फरवरी 2021 को नेशनल एजुकेशनल अलायंस फॉर टेक्नोलॉजी (NEAT 2.0) लॉन्च करेगा।

 

इस कार्यक्रम में कई प्रमुख हस्तियां मौजूद रहेंगी, जिसमें माननीय शिक्षा मंत्री श्री रमेश पोखरियाल निशंक, एआईसीटीई के अध्यक्ष प्रोफेसर अनिल डी. सहस्त्रबुद्धे, एआईसीटीई के उपाध्यक्ष प्रोफेसर एमपी पूनिया और एआईसीटीई में NEAT के सीसीओ श्री बुद्ध चंद्रशेखर शामिल होंगे।

 

प्रोफेसर अनिल सहस्त्रबुद्धे ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 (एनईपी 2020) का लक्ष्य नेशनल एजुकेशनल अलायंस फॉर टेक्नोलॉजी की ओर से प्रस्तावित छात्र पर केंद्रित शिक्षा के नजरिये को लागू करने का है। इसमें देश के हरेक छात्र की जरूरत के अनुसार व्यक्तिगत शिक्षा के मॉडल को अपनाया जाएगा और उन तक पहुंचने का लक्ष्य तय किया जाएगा।

प्रोफेसर एम. पी. पूनिया ने संकेत दिया कि NEAT 2.0 छात्रों को सीधे एजुकेशनल टेक्नोलॉजी के सोल्यूशंस प्रदान करने और उन्हें वैरिफाई करने में मदद करेगी। इससे सभी सोल्यूशंस एक ही प्लेटफॉर्म पर मिल सकेंगे। स्टूडेंट्स को इससे अपनी जरूरत के अनुसार तकनीक का चयन करने के लिए बहुत बड़ी संख्या में विकल्प मिलेंगे। इसके बदले में व्यापक स्तर पर शिक्षा से हासिल होने वाले नतीजों में सुधार आएगा।

एआईसीटीई के सदस्य सचिव श्री राजीव कुमार ने कहा, “शैक्षिक क्षेत्र में टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल अनिवार्य और अवश्यंभावी है। पिछले समय में लोगों ने जो सीखा है, तकनीक उसे नए आकार में ढालेगी। NEAT प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल जहां उनके कौशल को बढ़ाएगा, वहीं रोजगार के नए अवसरों का सृजन करेगा ।“

एआईसीटीई में NEAT और सीसीओ श्री बुद्धा चंद्रशेखर ने कहा, “NEAT 1.0 पोर्टल में 2 लाख से ज्यादा छात्र रजिस्टर्ड है। NEAT 1.0 प्लेटफॉर्म के माध्यम से कॉमन प्लेटफॉर्म पर कई एजुकेशनल टेक्नोलॉजी कंपनियों तक पहुंचा जा सकेगा, जिससे देश में बड़ी संख्या में छात्र इस पोर्टल का लाभ उठा सकेंगे। कोरोना लॉकडाउन के दौरान यह कोर्सेज मुफ्त में ऑफर किए गए थे, तब 64690 से ज्यादा छात्रों ने इससे लाभ उठाया है। श्री बुद्धा ने बताया कि आर्थिक एवम सामाजिक रूप से पिछड़े मेधावी छात्रों के लिए 25 फीसदी सीटें मुफ्त प्रदान की जाएंगी।

Pulkit Chaturvedi
Senior journalist with over 13 years of experience covering various fields of Journalism.

Keen interests in politics, sports, music and bollywood.

Leave a Reply

WhatsApp chat
%d bloggers like this: