बीजेपी सरकार राज में जबलपुर के विद्युत् विभाग के अंदर लाखो का भ्रष्टाचार ड्रोन कैमरों से कांग्रेस ने किया साबित, क्या जवाब देंगे अधिकारी?

0

कांग्रेस को जबलपुर में दस्तावेजों और ड्रोन कैमरों से भ्रष्टाचार के सबूत मिले हैं. मामला जबलपुर के आधारताल तिराहे से करौंदा बाईपास तक का है, यह भ्रष्टाचार खंभों की शिफ्टिंग और विद्युतीकरण के दौरान हुआ और इसमें बिजली विभाग के बड़े अधिकारी और ठेकेदार शामिल हो सकते हैं. कांग्रेस इस भ्रष्टाचार मामले की रिपोर्ट ईओडब्ल्यू और लोकायुक्त को देगी. कांग्रेस का दावा है कि भारी भरकम रकम के प्रोजेक्ट के लिए टेंडर जारी किया गया था, लेकिन टेंडर की शर्तें पूरी नहीं की गईं. खंभों पर लगे उपकरण नीचे से आसानी से नजर नहीं आते, इसलिए कांग्रेस नेताओं ने विद्युतीकरण प्रक्रिया में अनियमितताओं को पकड़ने के लिए ड्रोन कैमरे का इस्तेमाल किया.

मध्य प्रदेश में कांग्रेस पार्टी के लिए काम करने वाले सौरभ शर्मा को सूचना का अधिकार अधिनियम नामक कानून के माध्यम से कुछ महत्वपूर्ण कागजात प्राप्त हुए। उनका कहना है कि एक क्षेत्र में बिजली पहुंचाने की परियोजना के प्रभारी लोगों ने नियमों का पालन नहीं किया. उन्होंने वह काम भी नहीं किया जो उन्हें करना चाहिए था. माना जा रहा है कि उन्होंने जानबूझकर ऐसा किया और सरकार को धोखा दिया. उन्होंने सही संख्या में ट्रांसफार्मर नहीं लगाए और पुराने खंभों और ट्रांसफार्मरों को उस तरह से नहीं बदला जैसा उन्हें बदलना चाहिए था। उन्होंने निम्न-गुणवत्ता वाली सामग्रियों का भी उपयोग किया, जबकि उनसे अच्छी सामग्री का उपयोग करने की अपेक्षा की गई थी।

 

 

कांग्रेस नामक गुट के शरब शर्मा नामक नेता कह रहे हैं कि स्मार्ट सिटी ने एक निश्चित क्षेत्र में बिजली कनेक्शन के लिए बिजली विभाग को काफी पैसा दिया. लेकिन विभाग ने गलती कर दी और नये की जगह पुरानी सामग्री का उपयोग कर लिया. कांग्रेस ने सूचना का अधिकार अधिनियम नामक कानून का उपयोग करके कुछ दस्तावेज़ प्राप्त किए और फिर उस क्षेत्र को देखने के लिए एक ड्रोन का उपयोग किया जहां समस्या हुई थी। उन्होंने ड्रोन के जरिए समस्या से जुड़ी सारी चीजें देखीं. उन्हें लगता है कि बिजली विभाग ने कुछ बुरा किया है और पुरानी चीजों का इस्तेमाल कर बहुत पैसा बर्बाद किया है. उनका यह भी मानना ​​है कि बिजली विभाग में कुछ महत्वपूर्ण लोगों ने जनता से मिले पैसों का इस्तेमाल अपने फायदे के लिए किया. उनका कहना है कि हाल ही में बनाए गए कुछ ऊंचे ढांचे अब झुक रहे हैं। और भले ही उन्होंने एक नई बिजली लाइन डाल दी है, फिर भी बिजली की समस्याएँ हैं। कांग्रेस विद्युत प्रकोष्ठ निवारण के प्रदेश अध्यक्ष का कहना है कि वह जल्द ही इस पूरे प्रोजेक्ट में हुए भ्रष्टाचार की शिकायत करेंगे.

बिजली विभाग के अधिकारी कह रहे हैं कि उन्होंने कुछ भी गलत नहीं किया, भले ही कांग्रेस पार्टी ने उन पर भ्रष्ट होने का आरोप लगाया हो. प्रभारी सुधीर अरोड़ा ने कहा कि यदि कोई भ्रष्टाचार हुआ है तो वे इसकी जांच कराएंगे। उन्होंने बताया कि वे केवल काम की देखरेख करते हैं और यह वास्तव में ठेकेदारों द्वारा किया जाता है। लेकिन अगर किसी को शिकायत है तो वे इसकी जांच जरूर कराएंगे।

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *