नोएडा-ग्रेटर नोएडा मेट्रो सुरक्षा जांच में हुई पास, 25 से चलने की उम्मीद

0

नोएडा। मेट्रो रेल के मुख्य सुरक्षा आयुक्त (सीएमआरएस) शैलेश पाठक ने नोएडा-ग्रेनो मेट्रो लाइन की जांच का काम पूरा कर लिया है। सूत्रों की मानें तो सीएमआरएस की जांच में अधिकतर चीजें ठीक पाई गई हैं। कुछ छोटी कमियां पाई गईं जो दो-तीन दिन में ठीक कर दी जाएंगी। सीएमआरएस दो-तीन दिन में रिपोर्ट दे देंगे। अब 25 दिसंबर से इस रूट पर चलने की संभावना बन गई है।

सीएमआरएस ने डीएमआरएसी के एमडी मंगू सिंह, नोएडा प्राधिकरण के चेयरमैन आलोक टंडन व पीएसी की कमांडेंट कल्पना सक्सेना के साथ गुरुवार को मेट्रो की गति की जांच की। ग्रेटर नोएडा डिपो से सेक्टर-51 तक और फिर सेक्टर-51 से ग्रेटर नोएडा डिपो को अधिकतम रफ्तार से चलाकर देखा गया। इस दौरान मेट्रो की रफ्तार करीब 90 किलोमीटर प्रति घंटा रही।

बताया जाता है कि सेक्टर-51 से ग्रेटर नोएडा डिपो तक करीब 22 मिनट में मेट्रो पहुंच गई थी। इस दौरान मेट्रो का संतुलन व सवारियों की सुरक्षा से संबंधित चीजें सीएमआरएस ने देखीं। शाम करीब बजे तक यह जांच चली। सीएमआरएस ने 11 नवंबर से मेट्रो लाइन की जांच शुरू की थी। पहले दो दिन पूरी लाइन के सभी स्टेशन की जांच की गई। इसमें स्टेशन की लिफ्ट, एस्केलेटर, बिजली समेत कई बिंदुओं पर जांच की।

इस बारे में एनएमआरसी के कार्यकारी निदेशक पीडी उपाध्याय का कहना है कि जांच में कुछ कमी मिली या नहीं, यह सीएमआरएस की रिपोर्ट आने के बाद ही बता पाऊंगा। उनकी रिपोर्ट के आधार पर मेट्रो के चलने की तारीख तय होगी। जनवरी 2018 से एक किलोमीटर दायरे में ट्रायल शुरू हो गया था। अब पूरे रूट पर ट्रायल चल रहा है।

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *