श्रीमती परमिंदर चोपड़ा ने पीएफसी के सीएमडी का पदभार संभाला

0

-एस एस राव-

श्रीमती परमिंदर चोपड़ा को सरकार द्वारा 14 अगस्त को पावर फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (PFC) का अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक (CMD) नियुक्त किया गया है। इससे पहले वह 1 जुलाई 2020 से पीएफसी की वित्त निदेशक थी। साथ ही 1 जून 2023 से अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक (सीएमडी) का अतिरिक्त प्रभार भी संभाल रही थीं। इसके साथ ही श्रीमती चोपड़ा भारत की सबसे बड़ी एनबीएफसी, पीएफसी का नेतृत्व करने वाली पहली महिला बन गई है।

निदेशक (वित्त) के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने वित्त प्रभाग का नेतृत्व किया जिससे उच्चतम शुद्ध लाभ, उच्चतम निवल मूल्य और सबसे कम एनपीए स्तर प्राप्त हुआ। मजबूत वित्तीय प्रदर्शन ने पीएफसी को “महारत्न” का सर्वोच्च दर्जा प्राप्त करने में भी मदद की है। उन्होंने बिजली वितरण क्षेत्र के लिए 1.12 ट्रिलियन रुपये की तरलता आसव योजना (एलआईएस) के सफल कार्यान्वयन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जिसे सरकार द्वारा आत्मनिर्भर भारत पहल के हिस्से के रूप में शुरू किया गया था।

उनके पास बिजली और वित्तीय क्षेत्र में 35 वर्षों से अधिक का अनुभव है। पीएफसी में वह संसाधन जुटाने (घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय बाजार), बैंकिंग, ट्रेजरी, परिसंपत्ति देनदारी प्रबंधन और तनावग्रस्त परिसंपत्ति समाधान सहित प्रमुख वित्त कार्यों का नेतृत्व कर रही थीं। उनके पूर्व अनुभव में एनएचपीसी लिमिटेड और पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड जैसी बिजली क्षेत्र की बड़ी कंपनियों में सेवा शामिल है।

कार्यभार संभालने के साथ वह बिजली और बुनियादी ढांचा क्षेत्रों के वित्तपोषण के अलावा भारत के ऊर्जा परिवर्तन लक्ष्यों के वित्तपोषण में पीएफसी की महत्वपूर्ण भूमिका को प्रोत्साहन प्रदान करेंगी। उनके नेतृत्व में भारत के सबसे बड़े नवीकरणीय ऊर्जा फाइनेंसर के रूप में पीएफसी ने इलेक्ट्रिक वाहनों, जैव ईंधन, राउंड द क्लॉक जैसे हाइब्रिड नवीकरणीय ऊर्जा, नवीकरणीय उपकरण निर्माण आदि सहित स्वच्छ ऊर्जा परियोजनाओं के लिए वित्त पोषण में उल्लेखनीय वृद्धि की है और हाल ही में स्वच्छ ऊर्जा डेवलपर्स के साथ 2.40 लाख करोड़ रुपए की लागत वाले स्वच्छ ऊर्जा परियोजनाओं के प्रमुख वित्तपोषक के रूप में समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर भी किए हैं। वह संशोधित वितरण क्षेत्र योजना (आरडीएसएस) और विलंबित भुगतान अधिभार (एलपीएस) नियमों सहित भारत सरकार की प्रमुख बिजली क्षेत्र की पहलों के कार्यान्वयन में सहायता प्रदान करना जारी रखेंगी।

श्रीमती चोपड़ा के पास दिल्ली विश्वविद्यालय से वाणिज्य में स्नातक की डिग्री है और वह एक योग्य लागत और प्रबंधन लेखाकार हैं। उनके पास बिजनेस मैनेजमेंट में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा भी है। उन्होंने विश्व प्रसिद्ध संस्थानों यानी हार्वर्ड यूनिवर्सिटी, यूएसए और यूरोपीय स्कूल ऑफ मैनेजमेंट में जोखिम प्रबंधन और वैश्विक प्रबंधन पर उन्नत कार्यक्रमों में भाग लिया है। वर्ष 2023 में श्रीमती. परमिंदर चोपड़ा को व्यवसाय, समाज और राष्ट्र के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान देने के लिए इंस्टीट्यूट ऑफ कॉस्ट अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया द्वारा प्रतिष्ठित ‘आइकन ऑफ द ईयर’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। इस मान्यता के अलावा उन्हें वित्त उद्योग में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए “फाइनेंस लीडर ऑफ द ईयर” पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया है। ये असाधारण उपलब्धियों उनके स्थाई प्रभाव को उजागर करती हैं।

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *