एआईसीटीई ने साइकिल प्रोटोटाइप विकसित करने के लिए भारत साइकिल डिजाइन चैलेंज (बीसीडीसी) के विजेताओं की घोषणा की 

0

 

 

# एआईसीटीई का भारत साइकिल डिजाइन चैलेंज उत्कृष्ट प्रोटोटाइप प्रदान करता है

 

# भविष्य के इनोवेटर्स को सशक्त बनाने में एआईसीटीई डिजाइन उत्कृष्टता को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है

 

नई दिल्ली, 14 अगस्त:

 

ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन(एआईसीटीई) ने भारत साइकिल डिजाइन चैलेंज (बीसीडीसी) के विजेताओं के नामों की घोषणा की। जो इलेक्ट्रिक और गैर-इलेक्ट्रिक साइकिल डिजाइन के क्षेत्र में प्रतिभा और मूलता को बढ़ावा देने के उद्देश्य से एक रचनात्मक पहल है। बीसीडीसी, प्रशिक्षण व शिक्षा ब्यूरो और नम्मा-निम्मा साइकिल फाउंडेशन बैंगलुरु के सहयोग से एआईसीटीई ने देश को जी-20 की अध्यक्षता मिलने की खुशी में 3 जून(विश्व साइकिल दिवस) को इस प्रतियोगिता की घोषणा की थी। प्रतियोगिता में एआईसीटीई अप्रूव्ड तकनीकी संस्थानों के छात्रों से 2डी और 3डी डिजाइन की मांग की गई की थी।

 

638 प्रभावशाली डिजाइन प्रविष्टियों का विशेषज्ञों के एक पैनल  ने ध्यानपूर्वक समीक्षा और मूल्यांकन किया। उनके इस मूल्यांकन की प्रक्रिया के बाद 16 डिजाइनों को कार्गो ईवी, कार्गो नॉन-ईवी, कम्यूट ईवी और कम्यूट नॉन-ईवी(प्रत्येक में 4 डिजाइन) श्रेणी में शॉर्टलिस्ट किया गया है।  चयनित टीमें अब एआईसीटीई की अत्याधुनिक आइडिया लैब में अपनी दूरदर्शी अवधारणाओं को वास्तविक प्रोटोटाइम में बदलने की तैयारी करेंगी।

 

एआईसीटीई ने चुनी हुई टीमों के अग्रणी विचारों की क्षमता को पहचानते हुए उन्हें पर्याप्त सहायता प्रदान कर रहा है। प्रत्येक टीम को अपने डिजाइन को पूर्ण रूप से बनाने के लिए  40 हजार रुपए और आवश्यक संसाधन दिए जाएंगे। इसके अलावा एआईसीटीई अंतिम प्रोटोटाइप के गहन मूल्यांकन के बाद प्रत्येक श्रेणी में से अंतिम विजेता को 1 लाख रुपए के नगद पुरस्कार से सम्मानित करेगा। इन मूल्यांकन की घोषणा 2 अक्टूबर, 2023 को की जाएगी, जो भारतीय इनोवेशन के विकास में एक मील का पत्थर साबित होगा।

 

एआईसीटीई के चेयरमैन टी.जी. सीताराम ने कहा, ” भारत साइकिल डिजाइन चैलेंज भारत के तकनीकी शिक्षा परिदृश्य में रचनात्मकता और अग्रणी सोच को बढ़ावा देने की हमारी प्रतिबद्धता का एक आदर्श उदाहरण है। दृढ़ विचारों को व्यावहारिक क्रियान्वयन के साथ मिलाकर यह पहल न केवल साइकिल उद्योग को आगे बढ़ाती है बल्कि हमारे राष्ट्र के इनोवेशन सूचकांक को भी मजबूती प्रदान करती है।”

 

इन असाधारण डिजाइनों के अनावरण के साथ एआईसीटीई ने भारतीय साइकिल डिजाइन चैलेंज के प्रतिभागियों की उपलब्धियों और उनके योगदान की असाधारण क्षमता को सेलिब्रेट किया। यह आयोजन इनोवेशन क्षेत्र में भविष्य के प्रयासों के लिए एक मिसाल कायम करता है, जो डिजाइन और तकनीकी उन्नति में सबसे आगे रहने के भारत के दृढ़ संकल्प को प्रमोट करता है।

 

अधिक जानकारी और अपडेट के लिए, कृपया आधिकारिक एआईसीटीई वेबसाइट – https://www.aicte-india.org/ पर जाएं।

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *